BadBookthief

जब याद तुम आते हो…

पुरानी यादों को निचोड़कर
कभी ख़ुशी तो कभी ग़म
पी लिया करते हैं
जब याद तुम आते हो
दुनिया से छिपकर
रो लिया करते हैं

अपनी खामियों पर
खुद को जी भरके
कोस लिया करते हैं
जब याद तुम आते हो
दुनिया से छिपकर
रो लिया करते हैं

तुम्हारे वादों में
ज़िन्दगी का मकसद
ढूंढ लिया करते हैं
जब याद तुम आते हो
दुनिया से छिपकर
रो लिया करते हैं

दिल ही दिल में
तुम्हें देखकर
जी भर लेते हैं
जब याद तुम आते हो
दुनिया से छिपकर
रो लिया करते हैं

~~~~~

आशा सेठ

5 Replies to “जब याद तुम आते हो…”

  1. It’s really touching… I can feel one one words of it.. superb… Tears rolling down while reading it… touched my heart❤❤

    Like

Leave a Reply to Tamrindleaves Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: