दिलासा

शाम को जब
पंछी घर लौटते हैं
उन्हें देख दिल को
दिलासा दे देते हैं
मेरा आंगन न सही
किसीकी तो बगिया
आज रोशन हुई