सिलवटें

रेत की तरह

ज़िंदगी हाथों से निकलती

चली जाती है

हम तो बस किस्से हैं

दबे कहीं

सिलवटों में इसकी