घर

दीवारों की दरारों मेंछुपी ज़र्द यादेंपास जाकर देखाकभी मेरा बचपनसतह पर तैरताकभी दादी का बुढ़ापाकनखियों से झाँकताखिड़कियों के पार सेसन्नाटे ताकतेकभी होली में रंगेमाँ-बाबा की झलकतो कभी बिदाई में सजीअन्नू का अक्सखाली कमरों में गूंजतेहँसी के पटाखेकभी पापा के ठहाकेतो कभी दादा केकहानी-किस्सेएक एकड़ उस ज़मीं मेंहज़ारों यादें दफ़्नकभी वो मन बहलातेतो कभी कितना तरसाते

Read More