कभी तो ऐसा हो …

कभी तो ऐसा होमैं कुछ न कहूँऔर तुम सुन लोमैं नज़रें चुराऊँऔर तुम देख लोमैं उम्मीदें छुपाऊँऔर तुम जान लोमैं हसरतें मिटाऊंऔर तुम पढ़ लोकभी तो ऐसा होमैं खुदको को रोकूंऔर तुम पहचान लोमैं कतरा बिखरुंऔर तुम थाम लो

Read More

नासमझी…

इश्क़ कुछ इस कदर हुआ उनसेउनकी गलतियां अपनी लगने लगींउनकी खामियां अच्छी लगने लगींउनकी नासमझी की हद तो देखियेवह हमें हीकुसूरवार कहकरदोषी करार करकैदी बनाकरअनजानों की तरहछोड़ चले ~~~~~ आशा सेठ

Read More

It’s a shame…

It’s a shame

that i want more of you

always more

so much more

like a hungry wolf

Read More

9 Engaging Poetry Books to Beat Depression

What’s better than a good book to make living worthwhile? The pandemic has been a tough period, and the lockdown unbearable. Many of us are experiencing a term that has become a global lingo – lockdown depression. While there isn’t only one way to handle this period of heightened anxiety, I realised reading poetry has…

Read More