वो भी क्या दिन थे…

वो भी क्या दिन थे जब लालच खिलौनों से ज़्यादा एक अठन्नी की होती थी जब उस एक अठन्नी से सारे बाजार की सैर मज़े से होती थी वो भी क्या दिन थे जब माँ से ज़्यादा पड़ोस की चाची के लड्डू अच्छे लगते थे जब पापा की डॉंट से बचाने दादाजी बहाने बना दिया…

Read More