तेरी याद में…

आज भी तेरी याद में तुझे खत लिखा करते हैं डरते हैं तुझे भेजने से तो खुद ही पढ़ लिया करते हैं

Read More

सिलवटें

रेत की तरह ज़िंदगी हाथों से निकलती चली जाती है हम तो बस किस्से हैं दबे कहीं सिलवटों में इसकी

Read More

निगाहों में जिनकी हम…

ग़म तो जनाबइस बात का है कीनिगाहों में जिनकी हमताउम्र रहना चाहते थेउन्हें नज़रों से गिरने मेंज़्यादा वक़्त न लगाहम सपने बुनते रह गएऔर वो दबे पाओं दग़ा दे गए

Read More

जो दास्ताँ…

जो दास्ताँ जुबां पर हैवह उन्हें बताते कैसेकहते भी तो क्यावो अपनाते उन्हेंगैरों के बीच जोरातें काटी हमनेउनके चौखट परअजनबी का दर्जान गवारा था हमेंज़िन्दगी बीत गयीदो पल की दिल्लगीके आस मेंऔर जो दास्ताँ जुबां पर थीबरसों हुए उन्हें भुलाये हमें

Read More

तन्हाई

तन्हाइयों की शिकायत करें भी तो कैसे इन्होंने ता उम्र अपनों की तरह साथ निभाया है

Read More

दिलासा

शाम को जबपंछी घर लौटते हैंउन्हें देख दिल कोदिलासा दे देते हैंमेरा आंगन न सहीकिसीकी तो बगियाआज रोशन हुई

Read More

सांसें

उन खामोशियों पे दिल हारती चली गयी… शब्द क्या कह पाते जो तुम्हारी सांसें बयाँ कर गयीं…

Read More

ऐ जिंदगी…

पल दो पल ठहरकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी मीठी शरारतों में घुलना बाकी है अभी… पल दो पल पलटकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी नमकीन मस्तियों को चखना बाकी है अभी… पल दो पल मुस्कुराकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी हसीन मधोशियों में बिखरना बाकी है अभी…

Read More

Scars, like Stars…

she hides them but they peek anyway she paints them but they peel away she looks at them hard when she’s alone she relives those stories that have long gone she distances herself from the world so piercing she worries she’ll be judged reduced to mockery she aches to be sans them she longs to…

Read More

आज रात फिर …

आज रात फिरदरवाजे परतुम्हारी यादोंने दस्तक दीघंटों वे ठहरे रहेकी कब हम उन्हेंभीतर लें, बतियाएंसारी रातचारपाई से लिपटेहमने उन्हें अनसूना कियासारी उम्रइन यादों नेआंखें नम ही तो की हैं

Read More

कभी तो ऐसा हो …

कभी तो ऐसा होमैं कुछ न कहूँऔर तुम सुन लोमैं नज़रें चुराऊँऔर तुम देख लोमैं उम्मीदें छुपाऊँऔर तुम जान लोमैं हसरतें मिटाऊंऔर तुम पढ़ लोकभी तो ऐसा होमैं खुदको रोकूंऔर तुम पहचान लोमैं कतरा बिखरुंऔर तुम थाम लो

Read More

You were my drug…

you were my drug the one I was bare without the one I couldn’t stop craving and even though I knew you were drowning me I held on to you like a ship does for anchor you were my drug the one I couldn’t live without the one couldn’t breathe without and even though you…

Read More

नासमझी…

इश्क़ कुछ इस कदर हुआ उनसेउनकी गलतियां अपनी लगने लगींउनकी खामियां अच्छी लगने लगींउनकी नासमझी की हद तो देखियेवह हमें हीदोषी करार करअनजानों की तरहछोड़ चले ~~~~~ आशा सेठ

Read More

It’s a shame…

It’s a shame

that i want more of you

always more

so much more

like a hungry wolf

Read More

Light – Micropoetry

it was the light from the scars that made the broken ones shine * * * * * #badbookthiefpoetry Find a whole bunch of my pieces on Instagram. Just visit the link below. Happy writing till we meet next. Until then, carpe diem! 🙂 *******

Read More

4 am

you’re adrift barely breathing you’re sleeping but your ghosts are lurking although draped in slumber in your head you’re wide awake… For 4 am, is the hour to sire fresh dreams to leave behind all that couldn’t be… For 4 am, is a new bend those haunts need to rest the voices better wait they…

Read More

Love – Micropoetry

like a mad dog this heart went on chasing the trails of love * * * * * #badbookthiefpoetry For more of my poetry, Happy writing till we meet next. Until then, carpe diem! 🙂 ~~~~~  Youtube| Twitter| Instagram| Facebook| Tumblr | Pinterest

Read More

Apocalypse – Micropoetry

it was breathtaking the way she sat there like a winner ready to consume the apocalypse surrounding her * * * * * #badbookthiefpoetry For my poetry, Happy writing till we meet next. Until then, carpe diem! 🙂 ~~~~~ © Asha Seth Never want to miss a post? Subscribe Now: Youtube| Twitter| Instagram| Facebook| Tumblr | Pinterest

Read More

रंगी हूँ तुझ में…

जैसे है पीला सूरज का नीला आकाश का हरा बरसात का सफ़ेद सर्दी का जैसे है भूरा धरती का नारंगी शूर का लाल प्रेम का काला झूठ का वैसे ही रंगी हूँ तुझ में सदा के लिए तेरे बिना मेरी पहचान क्या? तुझसे जुदा मेरा अस्तित्व क्या? ~~~~~ आशा सेठ

Read More

Like a river…

I live off your breaths in all those moments when breathing is hard to do I walk in your steps in all those lanes where direction seems obscure I create life from your leftovers when my muse refuses to stop by I look at myself in your eyes when mirrors turn blind You are like…

Read More

Celebrating 8 Years of Blogging!

With close to 10k followers, I feel a pinch of joy to think that I might be doing something right here; despite my vanishing acts and brief spells of lethargy. Today, on the eve of the 8th anniversary, I look back at the past 8 years and I’m proud, so proud. Because I could beat…

Read More