Day 282: When Dad Left for his Maker

Imagining life without someone, when have we ever given that a thought? I was the same. But with you gone, life has taken an unexpected turn. I am now looking at things, I never gave a thought. I am reminiscing over events, that once craved my attention. I am lusting for certain aches, that once…

Read More

वो पापा ही थे …

बारिश की उन रातों में डूबे हुए नम यादों में घूँट घूँट उन घंटों को पीते थे हाँ, वो पापा ही थे सुबह की न होश न खबर सूरज की किरणों से परहेज कर खाली बोतलों में अधूरे सपनों को समेटते थे हाँ, वो पापा ही थे ख्वाहिशों की शैय्या से दूर बुने अपने बेशर्त…

Read More