सिलवटें

रेत की तरह ज़िंदगी हाथों से निकलती चली जाती है हम तो बस किस्से हैं दबे कहीं सिलवटों में इसकी

Read More

तन्हाई

तन्हाइयों की शिकायत करें भी तो कैसे इन्होंने ता उम्र अपनों की तरह साथ निभाया है

Read More

दिलासा

शाम को जबपंछी घर लौटते हैंउन्हें देख दिल कोदिलासा दे देते हैंमेरा आंगन न सहीकिसीकी तो बगियाआज रोशन हुई

Read More

सांसें

उन खामोशियों पे दिल हारती चली गयी… शब्द क्या कह पाते जो तुम्हारी सांसें बयाँ कर गयीं…

Read More

ऐ जिंदगी…

पल दो पल ठहरकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी मीठी शरारतों में घुलना बाकी है अभी… पल दो पल पलटकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी नमकीन मस्तियों को चखना बाकी है अभी… पल दो पल मुस्कुराकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी हसीन मधोशियों में बिखरना बाकी है अभी…

Read More

Scars, like Stars…

she hides them but they peek anyway she paints them but they peel away she looks at them hard when she’s alone she relives those stories that have long gone she distances herself from the world so piercing she worries she’ll be judged reduced to mockery she aches to be sans them she longs to…

Read More

आज रात फिर …

आज रात फिरदरवाजे परतुम्हारी यादोंने दस्तक दीघंटों वे ठहरे रहेकी कब हम उन्हेंभीतर लें, बतियाएंसारी रातचारपाई से लिपटेहमने उन्हें अनसूना कियासारी उम्रइन यादों नेआंखें नम ही तो की हैं

Read More

कभी तो ऐसा हो …

कभी तो ऐसा होमैं कुछ न कहूँऔर तुम सुन लोमैं नज़रें चुराऊँऔर तुम देख लोमैं उम्मीदें छुपाऊँऔर तुम जान लोमैं हसरतें मिटाऊंऔर तुम पढ़ लोकभी तो ऐसा होमैं खुदको रोकूंऔर तुम पहचान लोमैं कतरा बिखरुंऔर तुम थाम लो

Read More

नासमझी…

इश्क़ कुछ इस कदर हुआ उनसेउनकी गलतियां अपनी लगने लगींउनकी खामियां अच्छी लगने लगींउनकी नासमझी की हद तो देखियेवह हमें हीदोषी करार करअनजानों की तरहछोड़ चले ~~~~~ आशा सेठ

Read More

It’s a shame…

It’s a shame

that i want more of you

always more

so much more

like a hungry wolf

Read More

रंगी हूँ तुझ में…

जैसे है पीला सूरज का नीला आकाश का हरा बरसात का सफ़ेद सर्दी का जैसे है भूरा धरती का नारंगी शूर का लाल प्रेम का काला झूठ का वैसे ही रंगी हूँ तुझ में सदा के लिए तेरे बिना मेरी पहचान क्या? तुझसे जुदा मेरा अस्तित्व क्या? ~~~~~ आशा सेठ

Read More